कोयला

कोयला Download

  • भारत में कुल कोयला उत्पाद का केवल 2 प्रतिशतकोयला टर्शियरी क्रम की चट्टानों में पाया जाता है |
  • भारत में टर्शियरी क्रम की चट्टानों में पाये जाने वाले कोयले का प्रमुख क्षेत्र निम्नलिखित हैं –
कोयला क्षेत्रराज्य
नेवेलीतमिलनाडु
कारगिलजम्मू कश्मीर
माकूमअसम
पलनाराजस्थान
  • तमिलनाडु के नेवेली में लिग्नाइट किस्म का कोयला पाया जाता है |
  • जम्मू कश्मीर के कारगिल जिले में एन्थ्रेसाइट कोटि का कोयला पाया जाता है एन्थ्रेसाइट कोयले की उत्तम किस्म मानी जाती है |
  • असम के माकूम तथा राजस्थान के पलना में लिग्नाइट किस्म का कोयला पाया जाता है |
भारत के शीर्ष तीन कोयला भण्डारण वाले राज्य निम्नलिखित हैं (i)     झारखण्ड (ii)    उड़ीसा (iii)   छत्तीसगढ़ भारत में शीर्ष तीन कोयला उत्पादन करने वाले राज्य निम्नलिखित हैं – (i)     छत्तीसगढ़ (ii)    झारखण्ड (iii)   उड़ीसा Note-        कोयला उत्पादन करने वाले राज्यों का क्रम स्थिर नही रहता है बल्कि यह बदलता रहता है |
  • कोयला उत्पादन में चीन और संयुक्त राज्य अमेरिका के बाद भारत का तीसरा स्थान है |
कोयला संसाधन
कोयला संसाधन
  • कोल इंडिया लिमिटेड(Coal India Limited) कोयले का उत्पादन अथवा खनन करने वाली सार्वजनिक क्षेत्र की अर्थात् सहकारी क्षेत्र की सबसे बड़ी कंपनी है | यह एक महारत्न कपंनी है |इसकी स्थापना 1975 ई०में हुए थी|
  • भारत का अधिकाँश कोयला गैर कोकिंग श्रेणी का है| यह लोहा इस्पात उद्योग में इस्तेमाल के लिए अच्छे श्रेणी का कोयला नहीं माना जाता है | इसलिए लोहा इस्पात उद्योग के लिए कोकिंग कोयले का आयात चीन और आस्ट्रेलिया से किया जाता है |
  • कोयले में कार्बन होता है |कार्बन की उपस्थिति इसके उष्मीय क्षमता को निर्धारित करती है |जिस कोयले में कार्बन ज्यादा और नमी की मात्रा कम होती है, उसे हम कोकिंग कोयला कहते हैं | कोकिंग कोयले का उपयोग लोहा इस्पात उद्योग में किया जाता है |
  • कोयले में अधिक कार्बन की मात्रा उसके अधिक ताप की दशा को दर्शाता है |
  • भारत में सर्वाधिक लिग्नाइट प्रकार के कोयले का उत्पादन करने वाला राज्य तमिलनाडु है |
  • तमिलनाडु के नेवेली जिले में लिग्नाइट किस्म के कोयले की अनेक खानें हैं |
  • भारत में सर्वाधिक कोयले की खाने झारखण्ड राज्य में हैं |
भारत में अन्य प्रमुख कोयला क्षेत्र इस प्रकार हैं –
कोयला क्षेत्रराज्य
कालाकोडजम्मू कश्मीर
उमरसरगुजरात
निचाहोमजम्मू कश्मीर
बरकला कोयला क्षेत्रकेरल
नागचिकनामअरुणाचल प्रदेश
ऊष्मा तथा अशुद्धता के आधार पर कोयले को चार भागों में विभाजित किया गया  है – (i)     ऐन्थ्रेसाइट (ii)    बिटुमिनस (iii)   लिग्नाइट (iv)   पीट

ऐन्थ्रेसाइट

  • यह सर्वोत्तम कोटि का कोयला है|इसमें कार्बन की मात्रा 85 प्रतिशत से अधिक, ताप अधिक, नमी कम तथा धुआँ की मात्राभी कम पाया जाता है |
  • भारत में ऐन्थ्रेसाइट कोयला जम्मू कश्मीर के कारगिल क्षेत्र में पाया जाता है |

बिटुमिनस

  • बिटुमिनस गोंडवानायुगीन कोयला है|यह कोयला पूर्वी भारत मे उड़ीसा, झारखण्ड, पश्चिम बंगाल एवं छत्तीसगढ़ राज्यों में पाया जाता है |
  • भारत में लगभग 98 प्रतिशतकोयला बिटुमिनस प्रकार का है |
  • बिटुमिनस कोयला द्वितीय किस्म का कोयला है| इसमें कार्बन की मात्रा 55 से 65 प्रतिशतके बीच पायी जाती है |

लिग्नाइट

  • लिग्नाइट किस्म के कोयले को भूरा कोयला कहते हैं| लिग्नाइट कोयले की तीसरी कोटि का कोयला है | भारत में लिग्नाइट कोयले का सबसे बड़ा भण्डार तमिलनाडु के नेवेली क्षेत्र में पाया जाता है | तमिलनाडु के नेवेलीक्षेत्र में ही लिग्नाइट कोयले का सर्वाधिक उत्पादन किया जाता है |
भारत में  लिग्नाइट कोयले  के दो अन्य क्षेत्र भी हैं– (i)     असम राज्य में माकूम (ii)    राजस्थान राज्य में पलना
  • लिग्नाइट कोयले में कार्बन की मात्रा 45 से 55 प्रतिशत के बीच में पाया जाता है |

पीट

  • पीट एक घटिया किस्म का कोयला है | इसमें कार्बन की मात्रा 45 प्रतिशत से कम पाया जाता है | इसमें नमी की मात्रा अधिक होता है जिसके कारण इसे जलाने पर इसमें से धुँआ की मात्रा अधिक निकलती है |
  • सामान्यतः पीट किस्म के कोयले का निर्माण दलदली क्षेत्रों में होता है |यही कारण है कि पीट किस्म के कोयले में नमी की मात्रा अधिक होती है |

Leave a Message

Registration isn't required.


By commenting you accept the Privacy Policy

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.