प्रायद्वीपीय भारत का पठार – 3

प्रायद्वीपीय भारत का पठार : भाग-3 Download

prayadeep pathar

पश्चिमी घाट पर्वत

  • पश्चिमी घाट पर्वत तापी नदी के मुहाने से शुरू होकर दक्षिण में केपकेमोरिन तक विस्तृत है, केपकेमोरिन को ही कन्याकुमारी कहते हैं|
  • पश्चिमी घाट पर्वत का विस्तार उत्तर से दक्षिण की ओर है| उत्तर से दक्षिण तक इसकी कुल लम्बाई लगभग 1600 किमी. है|
  • पश्चिमी घाट पर्वत भारत में हिमालय के बाद दूसरा सबसे लम्बा पर्वत है|
  • पश्चिमी घाट पर्वत को सह्याद्रि भी कहते हैं|
  • पश्चिमी घाट पर्वत वास्तव में पर्वत न होकर प्रायद्वीपीय भारत के पठार का पश्चिमी भ्रंश कगार है|
  • पश्चिमी भ्रंश कगार का निर्माण इंडियन प्लेट के अफ्रीकन प्लेट से टूटकर अलग होने के परिणाम स्वरूप हुआ था|
  • उत्तरी सह्याद्रि की सबसे ऊँची चोटी काल्सुबाई है|
  • काल्सुबाई चोटी के दक्षिण में पश्चिमी घाट पर महाबलेश्वर चोटी स्थित है|
  • महाबलेश्वर चोटी और काल्सुबाई चोटी महाराष्ट्र राज्य में स्थित है|
  • गुजरात राज्य के अंतर्गत सौराष्ट्र क्षेत्र में तीन पहाड़ियां स्थित हैं – (i) गिर पहाड़ी (ii) बारदा पहाड़ी (iii) मांडव पहाड़ी
  • गुजरात के गिर क्षेत्र में एशियाई शेर पाये जाते हैं|
  • कृष्णा नदी महाबलेश्वर चोटी से निकलकर पूरब की ओर प्रवाहित होती है और बंगाल की खाड़ी में अपना जल गिराती है|
  • कर्नाटक राज्य में पश्चिमी घाट पर मुख्य रूप से दो चोटियाँ स्थित हैं – (i) कुद्रेमुख चोटी (ii) ब्रह्मगिरी चोटी
  • कर्नाटक राज्य में ब्रह्मगिरी चोटी से ही कावेरी नदी निकलती है और कर्नाटक तथा तमिलनाडु राज्य में प्रवाहित होती है|
  • दक्षिण भारत में पश्चिमी घाट पर्वत और पूर्वी घाट पर्वत एक-दूसरे से मिलकर एक पर्वतीय गाँठ का निर्माण करते हैं, इस पर्वतीय गाँठ को नीलगिरी पर्वत कहते हैं|
  • नीलगिरी पर्वत की सबसे ऊँची चोटी डोडाबेटा है|
  • नीलगिरी पर्वत का विस्तार तमिलनाडु, केरल तथा कर्नाटक राज्यों में है|
  • डोडाबेटा दक्षिण भारत का दूसरा सबसे ऊँचा पर्वत शिखर है|
  • प्रसिद्ध पर्यटन स्थल ऊंटी या ऊटक मंडल तमिलनाडु राज्य में नीलगिरी पहाड़ियों पर ही स्थित है|
  • केरल का प्रसिद्ध सदाबहार वन साइलेंट वैली अथवा शांत घाटी नीलगिरी पहाड़ियों पर ही स्थित है|
  • साइलेंट वैली अपनी जैव विविधता और घने जंगलों के लिए जाना जाता है|
  • नीलगिरी के दक्षिण में एक पर्वतीय दर्रा है, इसे पालघाट दर्रा कहते हैं|
  • पालघाट दर्रा को स्थानीय रूप से पलक्काड़ दर्राकहते हैं|
  • पालघाट दर्रे से होते हुए केरल एवं तमिलनाडु राज्य को सड़क एवं रेल मार्ग द्वारा जोड़ा गया है|
  • पालघाट दर्रे के दक्षिण में एक अन्य पर्वतीय गांठ स्थित है, जिसे अनाइमुदी पर्वतीय गांठ कहते हैं|
  • अनाइमुदी पर्वतीय गांठ से तीन दिशाओं में पहाड़ियां निकली हुयी हैं – (i) उत्तर की ओर अन्नामलाई (ii) दक्षिण की ओर कार्डामम (iii) उत्तर-पूरब की ओर पालनी पहाड़ी
  • अन्नामलाई पहाड़ी की सबसे ऊँची चोटी अनाइमुदी है| कार्डामम पहाड़ी को इलायची पहाड़ी या इलामलय पहाड़ी भी कहा जाता है|
  • कार्डामम पहाड़ी भारत की दक्षिणतम पहाड़ी है|
  • अनाइमुदी चोटी के पूरब में पालनी की पहाड़ी है, पालनी की पहाड़ी मुख्य रूप से तमिलनाडु राज्य में स्थित है|
  • प्रसिद्ध पर्यटन स्थल कोडाइकनाल तमिलनाडु राज्य में पालनी पहाड़ियों पर ही स्थित है|
  • पालनी की पहाड़ी पूरी तरह से तमिलनाडु राज्य में विस्तृत है, जबकि अन्नामलाई पहाड़ी और कार्डामम पहाड़ी तमिलनाडु और केरल राज्य की सीमा पर स्थित है|
  • पश्चिमी घाट पर्वत पर जगह-जगह दर्रे पाये जाते हैं, इन दर्रों से होकर पश्चिमी घाट पर्वत को पश्चिम से पूरब दिशा कि ओर पार करने में सहायता मिलती है|
  • थालघाट दर्रा पश्चिमी घाट पर महाराष्ट्र राज्य में स्थित है| थालघाट दर्रे से होकर ही मुंबई-नागपुर सड़क मार्ग गुजरती है|
  • भोरघाट दर्रा पश्चिमी घाट पर महाराष्ट्र राज्य में ही स्थित है| भोरघाट दर्रे से होकर ही मुंबई से पुणे जाने वाली सड़क मार्ग गुजरती है|
  • राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या – 4 मुंबई से पुणे होते हुए चेन्नई पहुँचती है, यह राजमार्ग भी भोरघाट दर्रे से होकर गुजरता है|
  • पालघाट दर्रा नीलगिरी एवं अन्नामलाई पहाड़ियों के बीचो-बीच केरल राज्य में स्थित है|
  • शेनकोट्टा दर्रा कार्डामम पहाड़ी पर स्थित है| यह केरल राज्य में स्थित है|
  • तिरूअनंतपुरम् से मदुरै जाने वाली सड़क शेनकोट्टा दर्रे से ही होकर गुजरती है|

पूर्वी घाट पर्वत

  • पूर्वी घाट पर्वत पश्चिमी घाट पर्वत की तरह क्रमबद्ध एवं निरन्तर न होकर जगह-जगह पर कटा-छंटा है|
  • प्रायद्वीपीय भारत के पठार का ढाल पूरब की तरफ है, जिसके कारण प्रायद्वीपीय भारत की अधिकांश नदियाँ पश्चिमी घाट से निकलकर पूर्वी तट पर प्रवाहित होती हैं| जैसे – महानदी, गोदावरी, कृष्णा और कावेरी नदियाँ|
  • पूरब की ओर प्रवाहित होने के कारण महानदी, गोदावरी, कृष्णा और कावेरी नदियों ने पूर्वी घाट पर्वत को जगह-जगह काट-छांट दिया है|
  • गोदावरी और कृष्णा नदियों के डेल्टा के बीच में पूर्वी घाट पर्वत बिल्कुल समाप्त हो गया है|
  • पूर्वी घाट पर्वत को अलग-अलग राज्यों में स्थानीय नाम से जाना जाता है| जैसे – आंध्र प्रदेश में – नल्लामलाई, पालकोंडा और वेलिकोंडा तेलंगाना में – शेषाचलम तमिलनाडु – जावादी, शेवाराय, पंचामलाई और सिरुमलाई
  • तमिलनाडु की पहाड़ियाँ चार्कोनाइट चट्टानों से निर्मित हैं|
  • नीलगिरी पर्वत समेत तमिलनाडु की पहाड़ियों पर चंदन और सागौन के वृक्ष बहुतायत मात्रा में पाये जाते हैं|

Leave a Message

Registration isn't required.


By commenting you accept the Privacy Policy

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Usernicename
Ranjeet kumar May 15, 2020, 7:38 am

Thank you sir

Usernicename
ajay May 14, 2020, 4:53 pm

must sr bahut badiya

Usernicename
SITESH KUMAR April 28, 2020, 9:26 am

Thanks sir ji

Usernicename
Vibhishan kumar March 15, 2020, 10:17 am

Pdf lena tha sir

Usernicename
Vibhishan kumar March 15, 2020, 10:15 am

Sir pdf chhahiyea

Usernicename
Siraj February 28, 2020, 12:56 pm

Sir please provide pdf

Usernicename
Mohit February 28, 2020, 11:32 am

PDF kase download kra

Usernicename
Mohit February 28, 2020, 11:31 am

Sir PDF kase download kra

Usernicename
Ashwani Singh February 27, 2020, 8:34 pm

Sir U r genius..and u r the only hope for us..will u plz provide hard copy in pdf formate of this notes.

Usernicename
saudhir sahay February 1, 2020, 8:34 pm

must sr bahut badiya