Episode- 55 || Indian Economy || Growth Vs Development || S.K Jha

Leave a Message

Registration isn't required.


By commenting you accept the Privacy Policy

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Usernicename
Arya Rai
October 26, 2020, 10:30 pm

thankuuu sirrrr

Usernicename
Gagan sahu
April 20, 2020, 5:55 pm

Rohit jee bahut sahi jagah hit kiya he apne

Usernicename
Anjulata
April 16, 2020, 11:42 am

दिव्यांशु जिस बैंक में मर्ज किया गया है उसी का रेट लगेगा जैसे बैंक ऑफ बड़ौदा में विजया बैंक एवम देना बैंक का मर्ज कर दिया गया है यदि मर्ज होने से पहले किसी ने विजया या देना बैंक से ऋण लिया है तो मर्ज होने के बाद बैंक ऑफ बड़ौदा का रेट लगेगा

Usernicename
Savitri Patel
April 15, 2020, 12:03 am

Thank you sir nice lecture

Usernicename
SUNIL KUMAR Jha
April 14, 2020, 10:37 am

Absolutely true rohit.We even today cannot do anything

Usernicename
Rohit Patidar
April 14, 2020, 9:38 am

Good Morning sir, क्या उत्तर के विकसित देश दक्षिण के गरीब देशो पर अपने नियम नहीं थोपते? आपने हम्बर्गर के बारे में बताया था जो उनके द्वारा मुद्रा विनिमय के लिए प्रयोग किया गया था वैसे ही वे एनवायरनमेंट और सस्टेनेबल डेवलपमेंट में भी उनके सहूलियत के लिए बनाये गए नियम हम पर लागु करने की कोशिश करते है? क्योकि जितना प्रदुषण वे करते है उसकी तुलना में हम कम ही करते है और जनसँख्या की दृष्टि से देखे तो उनकी तुलना में कुछ भी नहीं करते। ख़ैर कम प्रदुषण या ज्यादा प्रदुषण जैसा कुछ नहीं होता है, रैशनल वे में प्रदुषण, प्रदुषण होता है। यह आपकी मेहनत ही है जिसकी बदौलत हम लेक्चर को एक बार ध्यानपूर्वक सुनकर ही उस particular topic पर टिप्पणी करने में सक्षम हो जाते है। Thank you Sir, thank you Deity.

Usernicename
Divyanshu singh
April 14, 2020, 4:24 am

sir jo banko marge hue h . usse pahle koi loan liya hoga to sare bank ka interest rate alag alag Hota h merge hone k baad interest rate same hojaega ?

Usernicename
Anjulata
April 13, 2020, 8:49 pm

सर सरकार द्वारा प्राथमिक शिक्षा के क्षेत्र में सुधार के तहत जो निष्ठा प्रशिक्षण कराया गया उसका जमीनी स्तर पर कोई सुधार नहीं हुआ मै खुद बेसिक शिक्षा परिषद उत्तर प्रदेश से जुड़ी हूं