भारत और बंगलादेश के हितधारकों की पहली बैठक गुवाहाटी में आयोजित की गयी | 28 October 2019

भारत और बंगलादेश के हितधारकों की पहली बैठक गुवाहाटी में आयोजित की गयी Download

भारत और बंगलादेश के हितधारकों की पहली बैठक 22-23 अक्टूबर को गुवाहाटी में आयोजित की गयी। इस बैठक समारोह का उद्घाटन असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने किया। बैठक का उद्देश्य आसियान देशों (Association of Southeast Asian Nations) तथा बंगलादेश, भूटान और नेपाल के साथ व्यापार विस्तार में असम को केंद्र-बिंदु बनाना था।

इस बैठक में द्विपक्षीय व्यापार और संपर्क पर प्रमुख रूप से चर्चा हुई। दोनों देशों के प्रतिनिधिमंडल ने गुवाहाटी में सड़क समझौते, सीमा पार सतह मार्ग व्यापार और बंदरगाह उपयोग समझौते सहित कई मुद्दों पर विचार-विमर्श किया।

बैठक में भाग लेते हुए बांग्लादेश के वाणिज्‍य मंत्री टीपू मुंशी ने कहा है कि बांग्लादेश और पूर्वोत्‍तर भारत के बीच भौतिक सम्‍पर्क ढांचों और लोगों के बीच संपर्क से दोनों देशों को लाभ पहुंचेगा।

हांगकांग प्रशासन ने विवादित प्रत्यर्पण कानून को वापस लिया

हांगकांग प्रशासन ने 23 अक्टूबर को विवादित प्रत्यर्पण कानून को वापस ले लिया। इस कानून के कारण वहां कई महीनों तक अराजक प्रदर्शन हो रहे थे। ये प्रदर्शन बाद में एक बड़े लोकतांत्रिक परिवर्तन के अभियान में बदल गये थे। इस कानून को वापस लिये जाने की प्रतीक्षा लंबे समय से हो रही थी।

हांगकांग के नेता केरी लैम ने इस साल के शुरूआत में प्रत्यर्पण संबंधी कानून की पेशकश की थी। इस कानून से वहां के नागरिकों को इस बात की चिंता थी कि इससे उन पर चीन की सख्त न्यायिक व्यवस्था में शामिल किये जाने का जोखिम खड़ा हो जायेगा। इस कानून के विरोध में जोरदार प्रदर्शन शुरू हो गये थे।

तुर्की की सीमा को कुर्द लड़ाकों से खाली कराने के लिए रूस और तुर्की ने एक समझौते पर हस्‍ताक्षर किये

सीरिया और तुर्की की सीमा को कुर्द लड़ाकों से खाली कराने के लिए रूस और तुर्की ने 22 अक्टूबर को एक समझौते पर हस्‍ताक्षर किये। इसका उद्देश्‍य सीरिया के उत्‍तर-पूर्वी इलाके पर साझा नियंत्रण स्‍थापित करना है।

समझौते के तहत तुर्की को उन इलाकों का नियंत्रण मिलेगा, जिनमें उसने इस महीने के शुरू में कार्रवाई की थी। सीमा के बाकी हिस्‍सों पर रूस और सीरिया- दोनों की सेनाएं तैनात रहेगी। दोनों देशों के बीच हुए समझौते के अंतर्गत कुर्दिश लड़ाकों को तुर्की और सीरिया की (440 किलोमीटर लंबी) सीमा से 30 किलोमीटर दूर हटने के लिए और 150 घंटों का समय दिया गया है। रूस के राष्‍ट्रपति व्लादिमिर पुतिन और तुर्की के राष्‍ट्रपति रज़प तैय्यप एर्दोआन ने सीमावर्ती इलाकों की साझा गश्‍ती पर भी सहमति व्‍यक्‍त की।

उल्लेखनीय है कि तुर्की, कुर्द बलों को आतंकी मानता है और सीरिया की सीमा के अंदर तक वह एक ‘सेफ़ ज़ोन’ बनाना चाहता है। यह समझौता अमरीका समर्थित सीरियाई कुर्द लड़ाकों के नेतृत्‍व वाली सेना के उत्‍तरी सीरिया से हटने के बाद हुआ है, जिसकी मांग तुर्की करता रहा है।

कनाडा में प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो की लिबरल पार्टी ने चुनाव में जीत हासिल की

नाडा में प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो की लिबरल पार्टी ने चुनाव में जीत हासिल की है। 21 अक्टूबर को हुए आम चुनाव में नजदीकी मुकाबले में ट्रूडो ने सत्ता पर वापसी करने में कामियाबी हासिल की। हालांकि उनकी पार्टी को पूर्ण बहुमत नहीं मिल पाया है।

338 सीटों वाली कनाडा की संसद के चुनाव में लिबरल पार्टी 157 सीटों पर जीत दर्ज की है, जबकि कंजरवेटिव पार्टी को 121 सीटों पर जीत मिली है।

बहुमत नहीं मिल पाने के कारण प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो को छोटे दलों के साथ मिलकर गठबंधन सरकार चलानी होगी। 47 वर्षीय ट्रूडो ने पिछली बार साल 2015 में चुनाव जीता था।

सरकार ने MTNL का BSNL में विलय का फैसला लिया

रकार ने आर्थिक संकट से जूझ रही सरकारी टेलीकॉम कंपनी MTNL का BSNL में विलय का 23 अक्टूबर को फैसला लिया। पुनरुत्थान पैकेज के तहत दोनों कंपनियों का विलय होगा। दोनों कंपनियों की मजबूती के लिए सरकार 29,937 करोड़ रुपए खर्च करेगी। 15000 करोड़ रुपए सॉवरेन बॉन्ड के जरिए जुटाए जाएंगे।

2024 का पेरिस ओलिंपिक खेलों के लोगो का अनावरण किया गया

2024 का ओलिंपिक खेल फ्रांस की राजधानी पेरिस में आयोजित किया जायेगा। इस खेल प्रतियोगिता का लोगो 22 अक्टूबर को जारी किया गया। इसमें ओलिंपिक और पैरालिंपिक खेलों के लिए अलग-अलग लोगो लॉन्च किया गया है।

यह लोगो सर्कुलर डिज़ाइन और पेरिस 2024 आर्ट डेको स्टाइल (art deco style) में हैं। इस लोगो में पेरिस-2024 खेलों को प्रशंसकों के दिलों तक पहुंचाने का विजन दिखता है।

One thought on "भारत और बंगलादेश के हितधारकों की पहली बैठक गुवाहाटी में आयोजित की गयी | 28 October 2019"

  • savren bond kya hota h ji

  • Write a Reply or Comment

    Your email address will not be published. Required fields are marked *


    This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

    View All News