क्रोमाइट

क्रोमाइट Download

  • धात्विक खनिजों में जिस प्रकार सीसा और जस्ता का नाम एक साथ लिया जाता है, उसी प्रकार क्रोमाइट एवं निकिल का नाम भी साथ-साथ लिया जाता है | भारत में ओडिशा खनिज सम्पदा की दृष्टि से अत्यधिक समृद्ध राज्य है |भारत में क्रोमाइट का लगभग 95 प्रतिशत भण्डारण ओडिशा राज्य में पाया जाता है |
  • भारत में ओडिशा राज्य क्रोमाइट एवं निकिल दोनों के उत्पादन एवं भण्डारण में प्रथम स्थान पर है |भारत में क्रोमाइट एवं निकिल के भण्डारण में ओडिशा , मणिपुर और नागालैंड शीर्ष स्थान पर हैं|
  • भारत में क्रोमाइट एवं निकिल के उत्पादन में शीर्ष स्थान रखने वाले राज्य क्रमशः ओडिशा, कर्नाटक एवं महाराष्ट्र राज्य हैं|
  • क्रोमाइट एवं निकिल दोनों का उपयोग लोहा इस्पात उद्योग में स्टेनलेस स्टील (stainless steel) बनाने के लिए किया जाता है,इसलिए ये दोनों धातुएं अत्यधिक महत्वपूर्ण मानी जाती हैं|
  • भारत में उड़ीसा राज्य के कटक जिले में सुकिन्दा घाटी क्रोमाइट उत्पादन के लिए प्रसिद्ध है | सुकिंदा घाटी में ही अधिकांशतः क्रोमाइट पाया जाता है |क्रोमाइट के उत्पादन में ओडिशा का एकाधिकार है |
  • क्रोमाइट एक धात्विक खनिज है | क्रोमाइट से ही क्रोमियम प्राप्त किया जाता है |इसका उपयोग आमतौर पर स्टील पर चमक लाने के लिए किया जाता है | इसके अलावा क्रोमाइट का उपयोग स्टेनलेस स्टील (Stainless Steel) बनाने में किया जाता है |
  • स्टेनलेस स्टील मुख्यत: 4 धातुओं को मिलाकर बनाया जाता है-
         (i)       लोहा                                (ii)    क्रोमियम          (iii)     निकिल                           (iv)   कार्बन
  • स्टेनलेस स्टील बनाने में मैगनीज का प्रयोग नहीं किया जाता है |
  • भारत में निकिल के उत्पादन और भण्डारण में भी ओडिशा राज्य का प्रमुख स्थान है |
क्रोमाइट
क्रोमाइट

टिन

  • भारत में टिन का सीमित भण्डारण पाया जाता है | टिन के प्रमुख अयस्क को कैसिटेराइट (cassiterite) कहा जाता है |
  • भारत में टिन का एकमात्र उत्पादक राज्य छत्तीसगढ़ है | छत्तीसगढ़ में बस्तर के पठार (बस्तर जिला) से टिन प्राप्त किया जाता है| छत्तीसगढ़ राज्य में टिन अयस्क का प्रमुख भण्डार भी पाया जाता है |टिन का प्रयोग प्रायः टिन की चादरें बनाने और मिश्रित धातुओं के निर्माण में किया जाता है |

बाइराइट्स

  • बाइराइट्स अत्यधिक मजबूत धातु होती है |इसका उपयोग मुख्यतः तेल के कुएं खोदते समय उसमे से निकलने वाली गैस को रोकने के लिए किया जाता है |
  • भारत में आन्ध्र प्रदेश बाइराइट्स के उत्पादन में विश्व में अग्रणी स्थान रखता है |भारत में 95 प्रतिशत बाइराइट्स का भण्डारण आंध्र प्रदेश राज्य के अंतर्गत है | आन्ध्र प्रदेश के कुडप्पा जिले में मंगमपेट विश्व का सबसे बड़ा बाइराइट्स का भण्डार है |
           धातुओं का प्रमुख उपयोग –
  • लोहा,मैगनीज, क्रोमियम और निकेल का उपयोग मुख्यतः इस्पात उद्योग में किया जाता है |
  • मैगनीज का प्रयोग शुष्क बैटरियों के निर्माण में भी किया जाता है |
  • फैरोमैगनीज लोहा और मैगनीज का मिश्र धातु है |
  • कुछ मिश्र धातुएं ऐसी होती हैं, जो भारत में प्राचीन काल से ही बनाई जाती रही हैं|उदहारण के लिए सैन्धव सभ्यता के लोग तांबे में टिन को मिलाकर एक नया धातु कांसे का निर्माण करते थे |
  • ताँबा और टिन को मिलाकर कांसा बनाया जाता है |
  • ताँबा और जस्ता के संयुक्त मिश्रण से पीतल बनाया जाता है |
  • तांबा, जस्ता, और निकल के संयुक्त मिश्रण से जर्मन सिल्वर बनाया जाता है |
  • रोल्ड गोल्ड (Rolled Gold)तांबा और सोना के मिश्रण से बनाया जाता है |
  • जिप्सम, चूना और सीमेंट के मिश्रण से प्लास्टर ऑफ पेरिस बनाया जाता है |
  • जस्ते का मुख्य प्रयोग लोहे कोजंगरोधी बनाने के लिए किया जाता है |
  • सीसे का सर्वाधिक उपयोग लौह इस्पात उद्योग में किया जाता है |
  • बाइराइट्स का भण्डार मंगमपेट भण्डार (आंध्र प्रदेश) में सर्वाधिक है | इसका प्रयोग मुख्य रूप से तेल कुआँ की ड्रिलिंग में किया जाता है |

टाइटेनियम

  • टाइटेनियम एक मिश्र धातु है | यह प्रकृति में स्वतन्त्र रूप में नहीं पायी जाती है, इसे कृत्रिम रूप से कारखानों में तैयार किया जाता है | इसके प्रमुख खनिज इलमिनाइट तथा रूटाइल है तथा अन्य दूसरे खनिज स्थुडो ब्रुकाइट, एरीजोनाइट, गाइकीलाइट तथा पायरोफेनाइट इत्यादि हैं | यह विश्व के सबसे मजबूत धातुओं में से एक है |
  • यह हल्का एवं मजबूत होने के कारण इसका उपयोग मुख्य रूप से एयरक्रॉफ्ट, स्पेसशटल, मिसाइल आदि बनाने में किया जाता है |

Leave a Message

Registration isn't required.


By commenting you accept the Privacy Policy

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Usernicename
ARVIND MAHTO May 11, 2020, 9:06 pm

Kindly provide a download link sir