जल परिवहन

जल परिवहन Download

  • देश के जल परिवहन को दो भागों में विभाजित किया गया है –
(i)     आन्तरिक जल परिवहन (ii)    बंदरगाह  
  • आन्तरिक जल परिवहन नदियों और नहरों के माध्यम से होता है | देश के आन्तरिक भागों में विद्यमान नदियां एवं नहरें तटों तक पहुँचने के लिए मार्ग प्रदान करती हैं| उदाहरण के लिए गंगा नदी भारत के 5 राज्यों और बांग्लादेश से प्रवाहित होते हुए समुद्र तक रास्ता प्रदान करती है |
  • जल परिवहन के अन्तर्गत बन्दरगाहों को भी शामिल किया जाता है| भारत में लगभग 13 बड़े एवं 200 छोटे-छोटे बन्दरगाह हैं |
  • बन्दरगाहों से न केवल देश के भीतरी भागों में व्यापार होता है बल्कि यहाँ से विश्व के अन्य देशों से भी व्यापार किया जाता है | उदाहरण के लिए भारत के एक बन्दरगाह विशाखापत्तनम से न केवल मुम्बई तक परिवहन किया जाता है बल्कि यहाँ से जापान तक लोहा का निर्यात किया जाता है | अत: कहा जा सकता है कि बन्दरगाह अन्य देश से व्यापार करने के लिए माध्यम होते हैं |
  • भारत नदियों एवं नहरों का देश है, इसलिए यहाँ आन्तरिक परिवहन की कमी नहीं है | आन्तरिक जल परिवहन के मार्ग के रूप में नदियों एवं नहर प्रणालियाँ काम करती हैं |
  • आन्तरिक जल परिवहन या आन्तरिक जल मार्ग देश के भीतरी भागों को तटीय क्षेत्रों या बन्दरगाहो से जोड़ने का काम करते हैं| उदाहरण के लिए किसी सामान को इलाहाबाद से लेकर राष्ट्रीय जलमार्ग -01 के माध्यम से हल्दिया तट तक लाया जा सकता है तथा यहां से सामान को विदेशों तक भेजा जा सकता है |
  • देश में आन्तरिक जलमार्गों की सर्वाधिक लम्बाई उत्तर प्रदेश में है क्योंकि यहाँ सर्वाधिक नदियाँ एवं नहरें पाई जाती हैं |
  • देश में जलमार्गों के विकास के लिए 1986 ई० में भारतीय अन्तर्देशीय जलमार्ग प्राधिकरण की स्थापना की गयी थी | इसका मुख्यालय नोएडा में स्थित है |
  • राष्ट्रीय अन्तर्देशीय नववहन संस्थान बिहार की राजधानी पटना में स्थित है |
  • राष्ट्रीय जलक्रीड़ा संस्थान गोवामें स्थित है |
  • इण्डियन मेरिटाइन विश्वविद्यालय चेन्नईमें स्थित है |
  • आन्तरिक जलमार्ग सड़कमार्ग एवं रेलमार्ग की तरह न तो विकसित होते हैं, न तो व्यवस्थित होते हैं और न ही लाभदायक होते हैं | किन्तु इनके विकास की संभावना बनी रहती है | यदि इनका विकास कर दिया जाये तो यहाँ से व्यापार की संभावना बढ़ जाती है | उदाहरण के लिए टेम्स नदी से बड़े-बड़े जहाज़ों के माध्यम से व्यापार किया जाता है |
  • आन्तरिक जल मार्गों के विकास में मुख्य बाधा नदियों के जल का घटना और बढ़ना है | भारत में नदियाँया तो सूख जाती हैं या तो नदियों में बाढ़ आ जाता है इन दोनों दशाओं में जल मार्ग का विकास करना कठिन है |
  • राष्ट्रीय जल मार्ग अधिनियम, 2016 के अनुसार देश में कुल 111 राष्ट्रीय जलमार्ग चिन्हित किये गए हैं | इनमें से 106 राष्ट्रीय जलमार्ग वर्ष 2016 में घोषित किये गए हैं | अर्थात् वर्ष 2016 से पूर्व देश में कुल केवल 05 राष्ट्रीय जलमार्ग ही थे |
 

प्रमुख राष्ट्रीय जलमार्ग

प्रमुख राष्ट्रीय जलमार्ग
प्रमुख राष्ट्रीय जलमार्ग
  • राष्ट्रीय जल मार्ग संख्या 01 – यह जलमार्ग इलहाबाद से हल्दिया को जोड़ता है | यह गंगा एवं हुगलीनदियों पर स्थित है| यह देश का पहला राष्ट्रीय जलमार्ग है| इसे वर्ष 1986 ई० में घोषित किया गया था | यह सर्वाधिक लम्बा राष्ट्रीय जलमार्ग है| इसकी कुल लम्बाई 1620 किमी० है |
  • राष्ट्रीय जलमार्ग संख्या 02- यह जलमार्ग ब्रह्मपुत्र नदी पर सदिया से धुबरी तक है |
  • राष्ट्रीय जलमार्ग संख्या 03- यह राष्ट्रीय जलमार्ग केरल राज्य में उद्योगमण्डल नहर पर कोल्लम से लेकर कोट्टापुरम तक है |
  • राष्ट्रीय जलमार्ग संख्या 04– यह जलमार्ग आन्ध्र तट पर काकीनाड़ा से तमिलनाडु के मरक्कानम तकबर्मिंघम नहर पर स्थित है |

Leave a Message

Registration isn't required.


By commenting you accept the Privacy Policy

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Usernicename
Vivek Saxena June 21, 2020, 7:51 pm

Sir video 72 ke part 2 se aage ki PDF download nhi ho rhi hai , request Gmail access mang rha hai, so pls solve this issue.

Usernicename
suraj kumar shah May 27, 2020, 2:19 pm

thank u soo much sir ji

    Usernicename
    Priyaranjan kumar May 19, 2020, 10:23 am

    Full