ट्रांस हिमालय और वृहद हिमालय

ट्रांस हिमालय और वृहद हिमालय Download

हिमालय  के अन्तर्गत 4 प्रमुख समानांतर पर्वत श्रेणियों को शामिल किया जाता  है, ये चारों पर्वत श्रेणियां निम्नलिखित  हैं – (i)    ट्रांस हिमालय (ii)   वृहद हिमालय (सर्वोच्च हिमालय) (iii)  मध्य हिमालय (लघु हिमालय) (iv)   शिवालिक हिमालय
tethis-bhusannati

ट्रांस हिमालय

  • ट्रांस हिमालय के अन्तर्गत हिमालय के उत्तर में जम्मू-कश्मीर राज्य में तीन पर्वत श्रेणियों को शामिल किया जाताहै |
  • ट्रांस हिमालय के अन्तर्गत शामिल ये तीन श्रेणियां निम्न प्रकार हैं- (i) काराकोरम पर्वत श्रेणी (ii) लद्दाख पर्वत श्रेणी (iii) जास्कर पर्वत श्रेणी
  • ट्रांस हिमालय को पार हिमालय भी कहते हैं |
  • काराकोरम ट्रांस हिमालय के सबसे उत्तर में स्थित पर्वत श्रेणी है |
  • हिमालय का उत्थान टेथिस सागर में जमा अवसादी मलबों से हुआ है, किन्तु ट्रांस हिमालय का निर्माण टेथिस सागर में अवसादी मलबों से नहीं हुआ है, यह यूरेशियन प्लेट का भाग है |
  • ट्रांस हिमालय का निर्माण हिमालय से पूर्व हो चुका था अर्थात् ट्रांस हिमालय, हिमालय से भी प्राचीन पर्वत श्रेणी है |
  • अधिक ऊँचाई होने के कारण ट्रांस हिमालय वर्ष भर हिमाच्छादित रहता है, जिसके कारण यहाँ वनस्पतियां नहीं पायी जाती हैं |
  • ट्रांस हिमालय के अन्तर्गत सबसे उत्तरी श्रेणीकाराकोरम है | काराकोरम न केवल ट्रांस हिमालय की बल्कि यह भारत की भी सबसे उत्तरी श्रेणी है |
  • भारत की सबसे ऊँची पर्वत चोटी  K2 (गॉडविन आस्टिन) काराकोरम पर्वत श्रेणी पर ही स्थित है |
  • काराकोरम पर्वत श्रेणी पर चार प्रमुख ग्लेशियर पाये जाते हैं – (i) सियाचिन (ii) हिस्पर (iii) वियाफो (iv) बाल्टोरा
  • काराकोरम पर्वत श्रेणी का विस्तार पूर्व में तिब्बत तक है, तिब्बत में काराकोरम को कैलाश श्रेणी कहते हैं |
  • काराकोरमपर्वत श्रेणी के दक्षिण में लद्दाखपर्वत श्रेणी है, लद्दाख पर्वत श्रेणी पर ही राकापोषी शिखर है |
  • राकापोषी शिखर दुनिया की सबसे तीव्र ढाल वाली चोटी है |
  • लद्दाख पर्वत श्रेणी दो नदियों के बीच में स्थित है, इसके उत्तर में श्योकनदी तथा दक्षिण में सिन्धु नदी प्रवाहित होती है |श्योक नदी सिंधु नदी की ही सहायक नदी है |
  • सिंधु नदी तिब्बत पठार के चेमायुंगडुंग ग्लेशियर से निकलती है |
  • सिंधु नदी उद्गम स्थान से उत्तर-पश्चिम की ओर लद्दाख एवं जास्कर पर्वत श्रेणियों के मध्य प्रवाहित होती है |
  • वर्तमान केन्द्रशासित प्रदेश लद्दाख की राजधानी लेह सिंधु नदी के तट पर स्थित है |
  • लेह लद्दाख एवं जास्कर पर्वत श्रेणियों के मध्य स्थित है |
  • लेह सिंधु नदी के दाहिने तट पर स्थित है |

वृहद् हिमालय

  • ट्रांस हिमालय के दक्षिणमें जास्कर पर्वत श्रेणी है |
  • वृहद् हिमालय को सर्वोच्च हिमालय, ग्रेटर हिमालय, महान हिमालय तथा हिमाद्रि हिमालयभी कहते हैं |
  • वृहद् हिमालय ट्रांस हिमालय से शचर जोन द्वारा अलग होता है |
  • वृहद् हिमालय, हिमालय के सभी श्रेणियों में सबसे ऊपरी अथवा ऊँची पर्वत श्रेणी है |
  • वृहद् हिमालय का विस्तार पश्चिम में नंगा पर्वत से लेकर पूर्व में नामचा बरवा चोटी तक विस्तृत है |
  • नामचा बरवा पर्वत श्रेणी तिब्बत के अन्तर्गत आता है |
  • विश्व की 10 सबसे ऊँची चोटियाँ वृहद् हिमालय के अन्तर्गत ही आती हैं, जिनमें से प्रमुख सबसे ऊंची चोटियों के नाम इस प्रकार है-एवरेस्ट, कंचनजंघा, मकालू, धौलागिरिऔर अन्नपूर्णा |
  • वृहद् हिमालय के अन्तर्गत पर्वत चोटियों की स्थिति निम्नलिखित है –
    • एवरेस्ट – नेपाल
    • कंचनजंघा – सिक्किम
    • मकालू – नेपाल
    • धौलागिरि – नेपाल
    • अन्नपूर्णा – नेपाल
  • एवरेस्ट दुनिया की सबसे ऊँची पर्वत चोटी है, जिसकी ऊँचाई 8850 मी. है |
  • भारत की सबसे ऊँची पर्वत चोटी K2 (गॉडविन आस्टिन) है, किन्तु यह हिमालय पर स्थित नहीं है |
  • भारत में स्थित हिमालय की सबसे ऊँची पर्वत चोटी कंचनजंघा है |
  • विश्व की दूसरी सबसे ऊँची पर्वत चोटी K2 (8611 मीटर) है |
  • हिमालय की सबसे पूर्वी पर्वत चोटी नामचाबरवा तिब्बत में स्थित है |
  • हिमालय की सबसे पश्चिमी पर्वत चोटी नंगा पर्वत जम्मू-कश्मीर राज्य में स्थित है |
  • हिमालय की पूर्व से पश्चिम दिशा की ओर पर्वत श्रेणियों का क्रम निम्नलिखित है – नामचाबरवा, कंचनजंघा, मकालू, एवरेस्ट, मंसालू, धौलागिरि और अन्नपूर्णा |
  • पूर्व से पश्चिम दिशाकी ओर हिमालय के अन्तर्गत पर्वत चोटियों की स्थिति निम्नलिखित हैं –
    • नामचाबरवा – तिब्बत
    • कंचनजंघा – सिक्किम
    • मकालू – नेपाल
    • एवरेस्ट – नेपाल
    • सालू – नेपाल
    • धौलागिरि – नेपाल
    • अन्नपूर्णा – नेपाल
  • भारत के उत्तराखण्ड राज्य में महत्वपूर्ण पर्वत चोटियाँ स्थित है –कॉमेट, नंदा देवी, त्रिशूल, बन्दरपुच्छ और बद्रीनाथ |
  • एवरेस्ट को तिब्बती भाषा में चोमोलुंगमा कहते हैं, इसका अर्थ पर्वतों की रानीहै |
  • उत्तराखण्ड में वृहद् हिमालय पर दो ग्लेशियर स्थित है –गंगोत्री और यमुनोत्री|
  • गंगोत्री गंगा का उद्गम स्थान है |
  • यमुनोत्री से यमुना नदी निकलती है |
  • हिमालय की सबसे पूर्वी पर्वत श्रेणी नामचाबरवा (तिब्बत) है |

Leave a Message

Registration isn't required.


By commenting you accept the Privacy Policy

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Usernicename
Fatma April 22, 2020, 10:20 pm

I am a below middle class so I can't join a class for UPSC. Thank u so much for your great support and super great lecture

    Usernicename
    Amlesh vikram April 12, 2020, 8:24 pm

    चोटियों के पूर्व से पश्चिम में कुछ संदेह लग रहा है एवरेस्ट के बाद अन्नापूर्णा फिर धौलागिरी । कृपया संदेह दूर करें

    Usernicename
    SITESH KUMAR March 26, 2020, 6:06 pm

    Thanks you sir ji

      Usernicename
      Saurabh Maurya March 21, 2020, 6:20 pm

      Good evening sir, Sir issme Daulagiri aur Anyaaypurna ke sequence me doubt hai..... Atlas me Anyaaypurna pahle show kar raha hai.

      Usernicename
      Arjun verma March 2, 2020, 6:56 am

      Sir a nots mppsc mains ke liy usefull he kya

      Usernicename
      Sakshi tripathi February 29, 2020, 9:42 pm

      Sir aapka notes bahot hi accha h very very thank you so much sir aap bahot accha geography ka notes provide kiye h but jo or vidio ke notes abhi nai diye h plz sir unka bhi aap notes send kara dijiye hm seb apka dill se aabhar vyakt krte h

      Usernicename
      Deepshikha Verma February 29, 2020, 11:13 am

      You are great sir

      Usernicename
      Deepshikha Verma February 29, 2020, 11:12 am

      Superb lecture

      Usernicename
      Hritik goyal February 28, 2020, 12:10 pm

      Sir ye notes english me provide kra do please

      Usernicename
      Pradhumn Yadav January 24, 2020, 12:12 pm

      Super content