सड़क नेटवर्क

सड़क नेटवर्क Download

  • भारतमें लगभग 3 लाख किमी० सड़क नेटवर्क है,जो दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा सड़क नेटवर्क है |
  • विश्व में सड़क नेटवर्क के मामले में शीर्ष देश संयुक्त राज्य अमेरिका है |इसके बाद भारत और चीन क्रमशः दूसरे और तीसरे स्थान पर आते हैं|
भारत की सड़कों को चार वर्गों में विभाजित किया गया है – (i)     राष्ट्रीय राजमार्ग (ii)    राज्य राजमार्ग (iii)   जिला सड़कें (iv)   ग्राम सड़क

राष्ट्रीय राजमार्ग (National Highway)

  • राष्ट्रीय राजमार्गों की कुल लम्बाई 2019 तक लगभग 132500 किमी०है| राष्ट्रीय राजमार्ग केन्द्र सरकार के अधीन होते हैं|अर्थात् इनके निर्माण और रख-रखाव की जिम्मेदारी केन्द्र सरकार की होती है|राष्ट्रीय राजमार्गों का निर्माण केन्द्रीय लोक निर्माण विभाग (CPWD) के द्वारा किया जाता है |
  • भारत में लोक निर्माण विभाग की स्थापना 1854ई०में लॉर्ड डलहौजी के काल में की गयी थी |
  • राष्ट्रीय राजमार्ग देश में सड़कों के कुल लम्बाई का केवल 2%है |किन्तु देश के कुल सड़क परिवहन का लगभग 40% यातायात राष्ट्रीय राजमार्ग के द्वारा ही किया जाता है |
  • राष्ट्रीय राजमार्गों की सर्वाधिक लम्बाई वाला राज्य महाराष्ट्र राज्य है |
  • राष्ट्रीय राजमार्गों की सर्वाधिक लम्बाई वाले राज्य क्रमश: महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, राजस्थान और मध्य प्रदेश हैं |
  • राष्ट्रीय राजमार्ग विकास परियोजना(National Highway Development Project)1999 ई० में प्रारम्भ की गयी थी |इस परियोजना के अन्तर्गत दो घटक थे –
(i)     स्वर्णिम चतुर्भुज परियोजना का निर्माण करना (ii)    पूरब-पश्चिम और उत्तर-दक्षिण गलियारे का निर्माण करना
  • स्वर्णिम चतुर्भुज परियोजना के अन्तर्गत भारत के सभी चारमहानगरों दिल्ली, मुम्बई, चेन्नई और कोलकाताको जोड़ा गया |इन चारों महानगरों को जोड़ने वाले स्वर्णिम चतुर्भुज परियोजना की कुल लम्बाई 5846 किमी० है |
  • स्वर्णिम चतुर्भुज की सबसे लम्बी भुजा चेन्नई से कोलकाता है इसकी लम्बाई 1684 किमी० है |इसे राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या -05 के नाम से जाना जाता है |
Note –       राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या -05 चेन्नई से शुरू होकर कोलकाता के बहारागोड़ा तक ही जाती है |
  • स्वर्णिम चतुर्भुज की चारों भुजाओं को यदि राष्ट्रीय राजमार्ग के संख्या की दृष्टि से देखा जाये तो इसकी दिल्ली से कोलकाता तक की भुजा को राष्ट्रीय राजमार्गसंख्या-02, दिल्ली से मुम्बई तककी भुजा को राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या-08, मुम्बई से चेन्नईतक की भुजा को राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या -04 औरचेन्नई से कोलकाता तक की भुजा को राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या-05कहते हैं |
  • राष्ट्रीय राजमार्ग विकास परियोजना(National Highway Development Project) का दूसरा घटक पूरब-पश्चिम और उत्तर-दक्षिण गलियारा का निर्माण करना था |
  • उत्तर-दक्षिण गलियारा श्रीनगर से प्रारम्भ होकर तमिलनाडु के कन्याकुमारी तक जाता है एवं पूरब-पश्चिम गलियारा असम के सिलचर से प्रारम्भ होकर गुजरात के पोरबन्दर तक जाता है |इन दोनों गलियारों की सम्मिलित लम्बाई 7142 किमी० है |
  • उत्तर-दक्षिण और पूरब-पश्चिम गलियारा आपस में उत्तर प्रदेश के झांसी में एक दूसरे को काटती हैं |
  • राष्ट्रीय राजमार्ग विकास परियोजना(National Highway Development Project- NHDP)का क्रियान्वयन भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण(National Highway Authority Of India-NHAI) द्वारा किया जा रहा है | इस परियोजना के लिए वित्तीय व्यवस्था टोल टैक्स तथा ईंधन के द्वारा किया जाता है |
सड़क नेटवर्क
सड़क नेटवर्क

राज्य राजमार्ग (State Highway)

  • प्रत्येक राज्य के अपने प्रांतीय राजमार्ग होते हैं | प्रांतीय राजमार्ग अपने राज्य के सभी जिला मुख्यालयों को राज्य की राजधानी से जोड़ता है |
  • प्रांतीय राजमार्गों की सर्वाधिक लम्बाई वाला राज्य महाराष्ट्र है | इसके बाद कर्नाटक और गुजरात का क्रमशःदूसरा और तीसरा स्थान है |
  • सबसे अधिक प्रांतीय राजमार्ग वाले राज्यों में महाराष्ट्र, कर्नाटक, गुजरात, राजस्थान और मध्य प्रदेश शीर्ष स्थान वालेराज्य हैं |उपलब्ध आकड़ों के अनुसार उत्तर प्रदेश में प्रांतीय राजमार्ग की लम्बाई लगभग 7139 किमी० है |
Note-        उपरोक्त विषय में प्रस्तुत आंकड़े वर्ष 2020 में वास्तविक आंकड़ो पर आधारित हैं इसलिए विश्वसनीय हैं |

Leave a Message

Registration isn't required.


By commenting you accept the Privacy Policy

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Usernicename
Anoop Singh February 5, 2021, 9:45 pm

Good initiative sir g🙏🙏