आंग्ल-मैसूर युद्ध

आंग्ल-मैसूर युद्ध Download

  • ब्रिटिश ईस्ट इण्डिया कंपनी ने भारत में साम्राज्यवादी विस्तार के अंतर्गत सबसे पहले बंगाल पर विजय प्राप्त किया|बंगाल विजय के बाद अंग्रेजों की नजर मैसूर राज्य पर पड़ी|
  • 1565ई० में तालीकोटा के युद्धमें पराजित होने केबाद विजय नगर साम्राज्य का अंत हो गया|तालीकोटा के युद्ध के पश्चात विजय नगर सम्राज्य अनेक छोटे- छोटे राज्यों में विघटित हो गया| इन्हीं राज्यों में से मैसूर भी एक राज्य था|
  • 18वीं सदी के मध्य में वाडियार वंश का शासक चिक्का कृष्णराज द्वितीय था|वास्तव में चिक्का कृष्णराज द्वितीय, वाडियार वंश का अंतिम शासक सिद्ध हुआ|इसके समय में शासन की वास्तविक सत्ता दो मंत्रियोंनन्जराज एवं देवराजके हाँथ में थी|
  • इसी समय में हैदर अली,नन्जराज की सेना में भर्ती हुआ और शीघ्र ही अपनी योग्यता के बल पर हैदर अली1761 ई० में मैसूर का शासक बन बैठा|
  • दक्कन में मैसूर राज्य के दो स्वाभाविक प्रतिस्पर्धी थे –
  • मराठा
  • हैदराबाद के निजाम
 
  • मराठा अक्सर मैसूर राज्य पर लूट-पाट करने के उद्देश्य से हमला करते थे| मराठों की आय का मुख्य श्रोत सरदेशमुखी और चौथ था|मराठे पहले तो नियोजित ढंग से किसी राज्य पर आक्रमण करते थे, फिर उस राज्य को पराजित करके उससे नियमित तौर पर चौथ तथा सरदेशमुखी वसूला करते थे|
  • मैसूर राज्य का दूसरा शत्रु हैदराबाद का निजाम था|वास्तव में मराठे और निजाम आपस में न तो शत्रु थे और न ही मित्र थे बल्कि ये अवसरवादी थे|
  • आंग्ल-मैसूर युद्ध के समय में मराठा तथा निजाम ने कभी मैसूर का साथ दिया तो कभी स्वयं पालाबदलकर अंग्रेजों का साथ दिया|
  • आंग्ल-मैसूर युद्ध भारत में अंग्रेजी राज्य का विस्तारवादी परिणाम था|अंग्रेज भारत में अपना अधिक से अधिक विस्तार करना चाहते थे जिससे भारत से उन्हें अधिक से अधिक व्यापारिक लाभ प्राप्त हो सके|
  • अंग्रेज अपने विस्तारवादी प्रवृत्ति के कारण किसी न किसी राज्य से युद्ध करने का बहाना खोजते रहते थे और कभी-कभी तो बिना किसी बात के भी छोटे-छोटे राज्यों पर आक्रमण कर देते थे|
  • आंग्ल-मैसूर युद्ध के अंतर्गत कुल चार युद्धहुए थे|प्रथम आंग्ल-मैसूर युद्ध में मैसूर की विजय हुई जबकि अन्य तीन युद्धों में मैसूर राज्य को पराजित होना पड़ा था|
  • दक्षिण भारत के भारतीय शक्तियों में हैदर अली पहला व्यक्ति था जिसने अंग्रेजों को पराजित किया था|

प्रथम आंग्ल-मैसूर युद्ध(1767-1769 ई०)

 
  • प्रथम आंग्ल-मैसूर युद्ध (1767-1769ई०)हैदर अली और मद्रास प्रेसिडेंसी के मध्य हुआ था|इस युद्ध में हैदराबाद के निजाम और मराठों ने अंग्रेजों का साथ दिया था|इस युद्ध को प्रथम आंग्ल-मैसूर युद्ध के नाम से जाना जाता है|
आंग्ल-मैसूर युद्ध
आंग्ल-मैसूर युद्ध
  • 1769 ई० में हैदर अली नेअंग्रेजों को पराजित किया|दक्कन में भारतीय शक्तियों में हैदर अली पहला व्यक्ति था, जिसने अंग्रेजों को पराजित किया|
  • 1769 ई०में हैदर अली और अंग्रेजों के मध्य मद्रास की संधि हुई|इस संधि के तहत दोनों पक्षों ने एक दूसरे के जीते हुए प्रदेशों को वापस कर दिया तथा युद्ध की स्थिति में दोनों ने एक-दूसरे का साथ देने की बात भी स्वीकार की|मद्रास की संधि, 1769 के बाद प्रथम आंग्ल-मैसूर युद्ध समाप्त हुआ|

द्वितीय आंग्ल-मैसूर युद्ध (1780-1784 ई०)

  • हैदर अली ने 1780 ई० मेंकर्नाटक में अर्काट पर आक्रमण कर दिया|इस आक्रमण के साथ ही द्वितीय आंग्ल-मैसूर युद्ध की शुरुआत हुई| द्वितीय आंग्ल-मैसूर युद्ध में हैदराबाद के निजाम औरमराठों ने हैदर अली का साथ दिया था|हैदर अली ने कर्नल बेली को युद्ध मेपराजित कर अर्काट पर अधिकार कर लिया था|
  • वैसे तो द्वितीय आंग्ल-मैसूर युद्धचार वर्षों तक चला किन्तु वास्तविक निर्णायक युद्ध 1781 ई०में ही संपन्न हो गया था|बंगाल के गवर्नर-जनरल वॉरेन हेस्टिंग्स ने हैदर अली के खिलाफ युद्ध करने के लिए जनरल आयरकूट को युद्ध के लिए भेजा|जनरल आयर कूट ने अपनी सफल कूटनीति से महादजी सिंधिया और हैदराबाद के निजाम को अंग्रेज विरोधी कूटनीति से अलग करने में सफलता प्राप्त की|
  • वॉरेनहेस्टिंग्स, 1772ई० में बंगाल का गवर्नर बनकर आया था और 1774 ई० तक वह बंगाल का गवर्नर रहा|1774 ई० में वॉरेनहेस्टिंग्स को बंगाल का गवर्नर-जनरल बना दिया गया|अब उसे शेष दोनों प्रेसिडेंसियों पर भी शासन का अधिकार प्राप्त हो चुका था|
  • भारत में कंपनी के व्यापार को नियंत्रित करने के लिए 1773 ई० में रेग्युलेटिंग एक्ट पारित किया गया|1773 ई० में रेग्युलेटिंग एक्ट के माध्यम से ही 1774 ई० में वॉरेनहेस्टिंग्स को बंगाल का गवर्नर-जनरल बनाया गया था|वॉरेनहेस्टिंग्स को भारत का पहला गवर्नर-जनरल भी कहा जाता है|
  • हैदर अली और जनरल आयरकूटके मध्य 1781 ई० में पोर्टोनोवा का युद्धहुआ, इस युद्ध में हैदर अलीपराजित हुआ|इस युद्ध में अंग्रेजों से मिली पराजय से उत्पन्न मानसिक क्षति और घायल होने के कारण 1782 ई० में हैदर अली की मृत्यु हो गई|
  • हैदर अली की मृत्यु के पश्चात युद्ध का भार अचानक से उसके पुत्र टीपू सुल्तान के कन्धों पर आ गया|टीपू सुल्तान ने1784 ई० तक युद्ध को जारी रखा और अंततः1784 ई०में टीपू सुल्तान और अंग्रेजों के मध्य,मंगलौर की संधि हुई|इस संधि में भी दोनों पक्षों ने एक बार पुनः एक दूसरे के जीते गये प्रदेशों को वापस कर दिया|

Leave a Message

Registration isn't required.


By commenting you accept the Privacy Policy

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Usernicename
Shivani mishra March 16, 2021, 11:59 pm

Ap bahut ache se concept clear karke pdate hai sir thanku very much