अफ्रीका महाद्वीप – 2

अफ्रीका महाद्वीप – 2 Download

अफ्रीका महाद्वीप
अफ्रीका महाद्वीप
  • भूमध्य सागर में नील नदी के मुहाने से लेकर दक्षिण में मलावी झील तक अफ्रीका महाद्वीप के पूर्वी भाग में एक दरार घाटी का निर्माण हो गया है |इसी दरार घाटीअथवा भ्रंश घाटी में उत्तर से दक्षिण की दिशा में नासिर झील, विक्टोरिया झील, टंगनिका झील और मलावी झील एक सीधी रेखा में स्थित हैं|नील नदी विक्टोरिया झील से निकल कर इसी दरार घाटी में उत्तर की ओर प्रवाहित होते हुए भूमध्य सागर में अपना जल गिराती है |
  • नासीर झील मिस्र में नील नदी पर स्थित है |
  • विक्टोरिया झील भूमध्य रेखा पर स्थित है |नील नदी का उद्गम स्थल विक्टोरिया झील है |
  • विक्टोरिया झील से तीन देश- तंजानिया, युगांडा और केन्या सीमा बनाते हैं |
  • टंगनिका झील से 4 देश – तंजानिया, बुरूंडी, जायरे और जांम्बिया सीमा बनाते हैं |
  • मलावी झील स्पष्ट रूप से अफ्रीका के तीन देशों- मलावी, तंजानिया और मोजाम्बिक से सीमा बनाती है |अफ्रीका महाद्वीप में तुर्कान झील,केन्या में तथा टाना झील,इथीयोपीया में स्थित है |
  • विश्व के सबसे महत्वपूर्ण नदियों में नील नदी का प्रमुख स्थान है |नील नदी अफ्रीका के चार देशों युगांडा, दक्षिणी सूडान, सूडान तथा मिस्र से होकर प्रवाहित होती है|
अफ्रीका महाद्वीप
अफ्रीका महाद्वीप
  • जुलाई 2011 में दक्षिणी सूडान कीस्थापना सूडानसे अलग होकर एक ईसाई बाहुल्य देश के रूप में हुई | दक्षिणी सूडान की राजधानी जुबा है |
  • सफेद नील नदी का उद्गम विक्टोरिया झील से होता है जबकि नीली नील नदी का उद्गम इथीयोपीया से होता है |
  • नील नदी की दो धाराएं हैं| ये दोनों धाराएं सूडान की राजधानी खार्तुम में मिलती है | सूडान में दोनों धाराओं के मिल जाने के बाद इसे संयुक्त रूप से नील नदी कहते हैं | मिस्र में नासीर झील के उत्तर में नील नदी परआस्वान बांध का निर्माण किया गया है|मिस्र मेंनील नदी पर आस्वान बांध बनाकर जल विद्युत का उत्पादन किया जाता है |
  • कांगो गणराज्यको जायरे अथवा मध्य अफ़्रीकी गणराज्य के नाम से भी जाना जाता है |कांगो गणराज्य में एक विशाल नदी प्रवाहित होती है, इसे कांगो नदी कहते हैं|कांगो नदी की मुख्य विशेषता यह है कि कांगो नदी विषुवत रेखा को दो बार काटती है |
  • वास्तव में कांगो गणराज्य का क्षेत्रफल कांगो नदी के जलग्रहण क्षेत्र के साथ-साथ ही विस्तृत है | कांगो नदी के कारण ही कांगो गणराज्य की सीमा अटलांटिक महासागर तक विस्तृत है |
  • कांगो गणराज्य के दक्षिणी क्षेत्र में एक पठार स्थित है, इसे कटंगा पठार कहते हैं|कटंगा पठार धात्विक खनिज के मामले में अत्यन्त समृद्ध पठार है | यहां मुख्य रूप से दो धातुएं हीरा और तांबा पायी जातीहैं |
  • विश्व के कुल भण्डार का लगभग 40% हीरा कटंगा पठार में संचित है| किन्तु यहां से अभी उत्पादन नहीं किया जाता है | विश्व में हीरा उत्पादन में अग्रणी देश रूस है |
  • विश्व में तांबे के प्रमुख बड़े भण्डारों में कटंगा पठार शामिल है | कटंगा पठार में बहुत बड़ा तांबे का संचित भण्डार है |
  • नाइजीरिया में एक प्रमुख नदी प्रवाहित होते हुए अपना जल गिनी की खाड़ी में गिराती है, इस नदी को नाइजर नदी कहते हैं |
  • नाइजीरिया में नाइजर नदी की घाटी में जमीन के नीचे बड़े मात्रा में पेट्रोलियम का भण्डार संचित है, इसलिए इस नदी को तेल नदी (Oil River) भी कहते हैं |
  • नाइजर नदी के घाटी में इबादान नामक एक प्रमुख शहर स्थित है |इबादान से पेट्रोलियम पदार्थों का खनन किया जाता है | नाइजीरिया में उत्पादित पेट्रोलियम पदार्थों का शोधन इबादान रिफाइनरी में ही किया जाता है|इबादान,नाइजीरिया का सबसे बड़ा नगर है |
  • नाइजीरिया में नाइजर नदी पर कैन्जी बाँध बनाया गया है | इस बाँध से जल विद्युत का उत्पादन किया जाता है |
  • दक्षिण अफ्रीका और बोत्सवाना के सीमा पर लिम्पोपो नदी प्रवाहित होती है| लिम्पोपो नदी, मकर रेखा को दो बार काटती है |
  • जाम्बिया और जिम्बाबवे की सीमा पर जाम्बेजी नदी प्रवाहित होती है | जाम्बेजी नदी जाम्बिया और जिम्बाबवे की सीमा पर प्रवाहित होते हुए मोजाम्बिक जलसंधि में अपना जल गिराती है | जाम्बेजी नदी पर करीबा बांध का निर्माण किया गया है |
  • अफ्रीका महाद्वीप का सबसे सम्पन्न देश दक्षिण अफ्रीका है | दक्षिण अफ्रीका में जोहान्सबर्ग सबसे महत्वपूर्ण शहर है |
  • जोहान्सबर्ग, विट॒वार्ट॒जरैंड कीपहाड़ी पर स्थित है |विट॒वार्ट॒जरैंड की पहाड़ी में सोने का विशाल भण्डार संचित है |
  • विश्व में सर्वाधिक सोना जोहान्सबर्ग की खानों से प्राप्त किया जाता है|इसलिए जोहान्सबर्ग को स्वर्ण नगर भी कहते हैं |
  • दक्षिण अफ्रीका की दो राजधानियाँ हैं –
(i)     प्रिटोरिया (ii)    केपटाउन
  • प्रिटोरिया दक्षिण अफ्रीका की प्रशासनिक राजधानी है और केपटाउन दक्षिण अफ्रीका की वैधानिक राजधानी है |
  • दक्षिण अफ्रीका की संसद,केपटाउन में स्थित है | प्रिटोरिया का नया नाम स्वाने है |
  • विषुवत रेखा पर वर्षभर वर्षा होती है |अफ्रीका महाद्वीप पर विषुवत रेखा के निकट दो महत्वपूर्ण देश स्थित है |
(i)     कांगो गणराज्य (जायरे) (ii)    कांगो
  • कांगो गणराज्य (जायरे)तथा कांगो में विषुवतीय जलवायु पायी जाती है|अत: यहाँ सदाबहार वन या वर्षा वन पाये जाते हैं |
  • अफ्रीका में विषुवतीय जलवायु के उत्तर अथवा दक्षिण में जाने पर सवाना तुल्य जलवायु पायी जाती है | सवाना तुल्य जलवायु को सूडान तुल्य जलवायु भी कहते हैं | यहाँ मोटे, कंटीली तथा कठोर घासों के मैदान पाये जाते हैं | यहाँ अपेक्षाकृत कम वर्षा होती है |
  • सवाना तुल्य जलवायु के उत्तर अथवा दक्षिण में जाने पर मरूस्थलीय जलवायु पायी जाती है | अफ्रीका महाद्वीप के उत्तरमेंसहारा मरूस्थल का विकास हुआ हैतथा इसके दक्षिणी भाग में कालाहारी मरूस्थल विस्तृत है |
  • सहारा मरूस्थल में प्रमुख पशु ऊँट पाया जाता है जबकिकालाहारी मरूस्थल में शुतुरमुर्ग पाया जाता है |
  • दक्षिणी अफ्रीका के दक्षिणी क्षेत्रों में शीतोष्ण जलवायु पायी जाती है | शीतोष्ण जलवायु को प्रेयरी जलवायु भी कहते हैं| दक्षिण अफ्रीका में प्रेयरी जलवायु को स्थानीय रूप से वेल्ड प्रदेश कहते हैं | यहां मुख्य रूप से मक्का उगाया जाता है| इसलिए इसे मक्का त्रिभुज भीकहा जाता है |
  • दक्षिण अफ्रीका का वेल्ड प्रदेश, मैरिनो किस्म के भेड़ पालन का क्षेत्र है | यहां मेरिनों भेड़े बड़ी मात्रा में पाली जाती हैं |

Leave a Message

Registration isn't required.


By commenting you accept the Privacy Policy

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Usernicename
SITESH KUMAR July 29, 2020, 2:54 pm

Thanks sir